क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

26 नवंबर 2010

२६/११ का आतंक..

एक सवाल मैं पूछ रहा हूँ ,
देश के खिदमतगारों से I
क्यों भीगी बिल्ली बन जाते ,
दुश्मन की ललकारों से ?

जनता अजमल की ‘खातिर’ को ,
देख-देख शर्मिंदा है I
क्यों आज तक मुंबई हमले
का आरोपी जिन्दा है ?

जिन गलियों में दौड़-दौड़ कर ,
हाहाकार मचाया था I
अमन-चैन की धरती पर ,
पानी सा रक्त बहाया था II

उन गलियों में दौड़ाकर ,
जनता भी उसपर वार करे I
बीच सड़क पर फाँसी देकर ,
पापी का संहार करे II

मुंबई हमलों के शहीद का ,
असली मान तभी होगा I
दुनिया के नक़्शे पर जब ,
ये पाकिस्तान नहीं होगा II
 
जब तक इनकी छाती पर ,
चढ़कर हुंकार नहीं भरते I
जब तक इनके जैसे हम भी ,
सीमापार नहीं करते II

तब तक यूँ ही खून बहेगा ,
चन्दन जैसी माटी पर I
तब तक वे ऐसे ही चढ़कर ,
मूंग दलेंगे छाती पर II



Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...