क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

8 दिसंबर 2010

बनारस में आतंक..


दशाश्वमेध के घाट पर ,
आतंकी विस्फोट I
भारत की संप्रभुता पर ,
फिर से गहरी चोट II
               फिर से गहरी चोट ,
               बाबरी ध्वंस की बरसी I
               बाबर के औलाद
               कर रहे मातम पुरसी II
चन्दन,रोरी,शंख,कमंडल,
पूजावाली थाल I
बिखरे सब सामान,घाट के
पत्थर हो गए लाल II 
               पत्थर हो गए लाल ,
               नपुंसक सत्ताधारी I
               फिर से वही प्रलाप ,
               कर रहे निंदा जारी II
खून बना पानी आतंकी
हाथ धो रहे I
देश की मिट्टी में बारूदी
आग बो रहे II
               देश के सीने में ,
               चुभ रहा हर दिन काँटा I
               अमन-चैन भारत का ,
               इनको नहीं सुहाता II
काँटे का काँटे से ही                                                      
उपचार करो I
जितने भी आतंकी हैं ,
संहार करो II

Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...