क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

2 जनवरी 2011

बनारस का रस...

चाहे घूमों लन्दन,पेरिस
चाहे घूमों फ़ारस में,
जो मजा बनारस में,वो
नहीं मिले किसी रस मेंII
            माथे तिलक लगाये पण्डों
            का घाटों पर मेला है
            'हर-हर महादेव' करते 
            जाते भक्तों का रेला हैII
मुंह में पान दबाए,मस्तक
ऊंचा कर बतियाते हैं,
बांध कमर पे गमछा,सारा
शहर घूम कर आते हैंII
            चौक,बांसफाटक से लेकर
            संकट मोचन,अस्सी तक,
            सुबह कचौड़ी,शाम ठंडई,
            पुरवा वाली लस्सी तकII
गली-गली मिष्ठान मनोहर,
गली-गली पकवान है,
बाबा विश्वनाथ की नगरी
की अद्भुत पहचान हैII
            जात-पात का भेद मिटाकर
            सभी ‘गुरु’कहलाते हैं,
            बड़े अनोखे बोल यहाँ के
            बड़ी अनोखी बातें हैंII
लोहे को सोना कर देने
की ताकत जो पारस में,
वही मजा बनारस में
ये नहीं मिले किसी रस मेंII
             
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...