क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

18 सितंबर 2011

श्राद्ध पक्ष

   भारत में सदियों से श्राद्ध की परंपरा रही है । पुत्रों द्वारा अपने पितरों का श्रद्धापूर्वक ध्यान करना तथा उनकी आत्मा की शांति एवं जीवन में त्याग आदि के लिए धन्यवाद देना ही श्राद्ध है । ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध पक्ष में हमें अपने पूर्वजों के प्रति आदर, सम्मान तथा प्रेम प्रकट करने के लिए उनकी विशेष पूजा, ध्यान आदि करना चाहिए ।  जीते जी पिता की सेवा करना तथा मृत्यु पश्चात उनके कर्मो तथा उनके बलिदान को पूजना प्रत्येक पुत्र का कर्तव्य है । ऐसा करने से पिता एवं पितर , सभी प्रसन्न रहते हैं तथा पुत्रों एवं आने वाली पीढी को कोई दोष व पाप नहीं लगता ।
   भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से प्रारंभ होकर आश्विन कृष्ण अमावस्या तक चलने वाला यह सोलह दिवसीय पितरों का तर्पण ‘पितृ-पक्ष’ कहलाता है । इसी पक्ष में श्राद्ध करने से पितरों को तृप्ति प्राप्त होती है । आत्मा अमर है और शरीर नाशवान । धार्मिक कथाओं के अनुसार, लगभग एक वर्ष तक आत्मा या सूक्ष्म जीव को नया शरीर नहीं मिलता है तथा मोहवश सूक्ष्मजीव अपने घर व स्वजनों के इर्द-गिर्द घूमता रहता है । श्राद्ध कार्य से सूक्ष्म जीव को तृप्ति मिलती है, इसलिए श्राद्ध कर्म किया जाता है । श्राद्ध में श्रद्धा का संपूर्ण अंश जुडा हुआ है । सच तो यह है कि 'श्राद्ध' पितरों की तृप्ति के लिए किया गया धार्मिक कृत्य है ।
   इस काल में सूर्य, मेष से कन्या संक्रांति तक उत्तरायण व तुला से मीन राशि तक दक्षिणायन रहता है । इस दौरान शीत ऋतु का आगमन प्रारंभ हो जाता है । कन्या शीतल राशि है। ऐसी धार्मिक कथा है कि इस राशि की शीतलता के कारण चंद्रमा पर रहने वाले पितरों के लिए यह अनुकूल समय होता है । यह समय आश्विन मास होता है । पितर अपने लिए भोजन व शीतलता की खोज में पृथ्वी तक आ जाते हैं । इसलिए अपने मृत परिजनों की आत्मा की संतुष्टि के लिए तर्पण या पिंड दान किया जाता है । दूसरी ओर, पितर भी बदले में सुखी जीवन जीने का आशीर्वाद देते हैं ।
   यदि आपको तिथि याद नहीं है, तो अमावस्या के दिन भी श्राद्ध व तर्पण कर दें । ब्राह्मण को आदर-सम्मान के साथ भोजन कराकर उन्हें यथायोग्य दान देकर प्रसन्न करें ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शुक्ल पक्ष देव पूजन तथा कृष्ण पक्ष पितृ पूजन के लिए उत्तम माना गया है ।
श्राद्ध के लिए तर्पण करते समय कुछ बातों को जरूर याद रखें । श्राद्ध हमेशा अपनी भूमि या अपने घर पर किया जाना चाहिए । किसी तीर्थ या नदी सागर तट पर भी श्राद्ध किया जा सकता है । तीर्थ स्थल श्राद्ध के लिए सर्वश्रेष्ठ माने गए हैं । श्राद्धकर्म में श्रद्धा, शुद्धता, स्वच्छता एवं पवित्रता पर ध्यान देना आवश्यक है । श्राद्ध दिन के मध्याह्न काल में किया जाना चाहिए ।
   ऐसा माना जाता है कि श्राद्ध पक्ष में कोई भी नया कार्य शुरू करना या नई वस्तु खरीदना आदि निषिद्ध है । संस्कृत शब्द श्रद्धा से श्राद्ध बना है, जिसका अर्थ होता है भक्ति और सद्भाव । श्राद्ध मनाने का आशय यह है कि हम अपने पूर्वजों, खासकर अपने मृत माता-पिता के आत्मा की शांति के लिए वर्ष भर में एक बार विधिवत पूजा-अर्चना करते हैं । धर्म के दृष्टिकोण से यह अनुष्ठान अत्यंत महत्वपूर्ण होता है । हमारे ऋषि-मुनियों ने इसे अच्छे संस्कार का परिचायक माना है । हमारे पूर्वज, जिनका देहावसान हो गया है, पितर कहलाते हैं । श्राद्ध पक्ष में उनका आह्वान किया जाता है । ऐसी धार्मिक मान्यता है कि इस विशेष पक्ष में उनकी पूजा-अर्चना तथा ध्यान करने से उनकी आत्मा तृप्त होती है । जिस तिथि को माता-पिता की मृत्यु होती है, उस दिन श्राद्ध मनाया जाता है ।
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...