क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

24 अगस्त 2017

सेहत का राज


लोगों को सुबह उठते ही चाय पीने का व्यसन होता है। इसके बिना उनका शौच नहीं होता। यह बहुत हानिकारक है। इसके स्थान पर हमें नीबू-पानी-शहद का सेवन करना चाहिए। सुबह उठते ही एक गिलास (लगभग 200 ग्राम) पानी में आधा नींबू और एक चम्मच शहद घोलकर छानकर पीना चाहिए। गर्मियों में पानी सादा होना चाहिए और सर्दियों में थोड़ा गुनगुना लिया जा सकता है, परन्तु गर्म कभी नहीं। 
    ऐसा करने से पेट अच्छी तरह साफ होता है, आंतें क्रियाशील होती हैं और कितना भी पुराना कब्ज हो आसानी से कट जाता है। इससे भूख भी बढ़ती है और लटके हुए पेट सामान्य होते हैं। शहद हमारे शरीर में रोगों का  मुकाबला करने की ताकत बढ़ाता है। नींबू न मिलने पर साधारण जल में शहद घोलकर भी पिया जा सकता है। यदि शहद भी न मिले तो नीबू-पानी या केवल सादा पानी अवश्य पीना चाहिए। 

तन पवित्र सेवा किए, धन पवित्र कर कर दान।
मन पवित्र हरि भजन कर, हो तेरा कल्याण॥

   साभार_ स्वास्थ्य रहस्य 
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...

संग्रह