क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

20 अगस्त 2017

स्वागत गीत

किसी कार्यक्रम के दौरान अतिथियों का स्वागत करने के लिए एक सुन्दर सा 'स्वागत गीत'

धन-धन हमारे भाग हैं,श्रीमन हमारे साथ हैं.
हम नमन-अभिनंदन करें,तव जोड़कर द्वय हाथ हैं.

अनुग्रहित है,मन मुदित है,श्रीमन पधारे जो यहाँ,
आभा उदित है मंच पर,सूरज दमकता है यहाँ.

श्रीफल दुशाला पुष्पमाला,से करें हम स्वागतम,
आतिथ्य को स्वीकार लें,उपकार कर दें श्री मनम.

रंगत नई आयी यहाँ,संगत मिली जो आपकी,
चहुँ ओर फैला नूर सा,यूँ शख्सियत है आपकी.

गरिमामयी,करुणामयी है भाल,नेह का ओज है,
इमदाद की,समभाव की,इक रहनुमाई सोच है.

आतुर ह्रदय करता विनय,कुछ आपका उदगार हो,
कुछ पथ-प्रदर्शित आज हो,आशा की लौ उजियार हो.

आशा भरी मौलिक मलय,नव पल्लवन की कौंध हो,
गुंचे उठे नित-नित नवल,उत्साह की मन मौज हो.
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...

संग्रह