क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

28 अगस्त 2017

चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है

    हिंदी फिल्मों में साहिर ने एक से बढ़कर एक सदाबहार नग्में लिखें हैं.वक्त फिल्म का एक नग्मा मुझे बेहद प्रिय है,जिसे मैं यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ.आपको भी अच्छा लगेगा.
चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है,आँखों में सुरूर आ जाता है – 2
जब तुम मुझे अपना कहते हो,अपने पे ग़ुरूर आ जाता है ।
चेहरे पे ख़ुशी…
तुम हुस्न की ख़ुद एक दुनिया हो,शायद ये तुम्हें मालूम नहीं – 2
शायद ये तुम्हें मालूम नहीं,
महफ़िल में तुम्हारे आने से हर चीज़ पे नूर आ जाता है ।
जब तुम मुझे अपना…
हम पास से तुमको क्या देखें,तुम जब भी मुक़ाबिल आते हो – 2
तुम जब भी मुक़ाबिल आते हो,
बेताब निगाहों के आगे परदा सा ज़रूर आ जाता है ।
जब तुम मुझे अपना…
जब तुमसे मुहब्बत की हमने,तब जा के कहीं ये राज़ खुला – 2
तब जा के कहीं ये राज़ खुला,
मरने का सलीका आते ही जीने का शऊर आ जाता है ।
जब तुम मुझे अपना…
                                                                                               __ साहिर लुधियानवी 
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...

संग्रह