क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

28 अगस्त 2017

कुछ शायरियाँ-२



                    १. ले दे के अपने पास फ़क़त इक नज़र तो है,
    क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नज़र से हम ।

२. फिर न कीजे मिरी गुस्ताख़-निगाही का गिला,
    देखिए आप ने फिर प्यार से देखा मुझ को ।

३. आप दौलत के तराज़ू में दिलों को तौलें,
    हम मोहब्बत से मोहब्बत का सिला देते हैं ।

 ४. अभी ज़िंदा हूँ लेकिन सोचता रहता हूँ ख़ल्वत में,
     कि अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मैं ने ।

           ५. उन का ग़म उन का तसव्वुर उन के शिकवे अब कहाँ,
    अब तो ये बातें भी ऐ दिल हो गईं आई गई ।

६. उन के रुख़्सार पे ढलके हुए आँसू तौबा,
    मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा ।

७. कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
    सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया

८. तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
    ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम ।

९. गर ज़िंदगी में मिल गए फिर इत्तिफ़ाक़ से,
    पूछेंगे अपना हाल तिरी बेबसी से हम ।

१०. तुझ को ख़बर नहीं मगर इक सादा-लौह को,
     बर्बाद कर दिया तिरे दो दिन के प्यार ने ।


__ साहिर लुधियानवी 
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...

संग्रह