क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

8 नवंबर 2010

सूखे रेत पर....


एक दलदल राह में थी

और हम धँसते गए...
          कौन था जो बुन रहा था
          जाल मेरे वास्ते,
          खूब की कोशिश निकलने की
          मगर फँसते गए...
चाहता था सामने आये न
मेरी राह में पर ,
उसके दरवाजे से होकर
यार सब रस्ते गए...
          थी न कोई चाह मेरी
          ना ही कोई स्वप्न था ,
          ख्वाब को बसने थे
          सूखे रेत पर बसते गए...

Share:

3 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह !! एक अलग अंदाज़ कि रचना ......बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. ख्वाब को बसने थे
    सूखे रेत पर बसते गए...

    बहुत खूबसूरत रचना ... सुधीर जी ..

    उत्तर देंहटाएं

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...