क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

7 नवंबर 2010

आरज़ू

 खिड़कियाँ थी बंद ,दरवाजे पे थे ताले पड़े,

कब,कहाँ,किस ओर से ये चाह घर करती रही.

बेखबर था वो हमारे दर्द से और एक मैं,

आंसुओं से अपना दामन तरबतर करती रही.

          चाहती थी बोल देना,उससे मन की बात को,

          सामने आये तो रख दूं,खोल के हर गाँठ को,

          हो न पाई मैं सफल,जो बात कहनी थी मुझे,

          कह न पाई उम्र भर,इन्कार से डरती रही. 

शाम को छत पर अकेली,हो खड़ी मुंडेर पर,

देखती थी मैं धरा को व्योम से करते मिलन,

है हकीकत और ही कुछ,इससे ज्यादा कुछ नहीं
कि,दूर अम्बर से सदा,इस लोक की धरती रही.
          थी अंधेरी रात उस बस्ती में अंतिम छोर तक,

          आस का दीपक जला,चलती रही मैं भोर तक,

          दूर थी मंजिल से मैं,और रास्ता वीरान था,

          थक चुकी थी फिर भी तनहा तय सफ़र करती रही.
Share:

2 टिप्‍पणियां:

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...