क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

9 नवंबर 2010

तुम बनों हमराज़ मेरी...


जानता  हूँ है बहुत मुश्किल मोहब्बत की डगर,

खींचकर तलवार हाथों में खड़े दुश्मन मगर,

हार जायेंगे जहाँ वाले मुझे विश्वास है जो ,
तुम बनो हमराज़ मेरी,मैं तुम्हारा हमसफ़र.
          जिन्दगी संक्षिप्त है विस्तार पाना चाहता हूँ,
          इस धरा से उस गगन के पार जाना चाहता हूँ,
          है किसे परवाह जो कश्ती नहीं है पास में,
          तैर के दरिया स्वयं उस पार जाना चाहता हूँ.
हौसला तो खूब है,विश्वास है,ताक़त नई,
जब तलक मंजिल न पा लूँगा मुझे राहत नहीं,
विघ्न,बाधा,कंटकों को रास्ते में देखकर,
हारकर मैं बैठ जाऊँगा मेरी आदत नहीं.
          भूल जाएँ आज से जितने भी हैं शिकवे-गिले,
          नाउम्मीदी के बिखर जाने दे सारे सिलसिले,
          फिर सजायें बाग़ की क्यारी नए फूलों से हम,
          देखते हैं स्वप्न जो पाते हैं वे ही मंजिलें.

Share:

1 टिप्पणी:

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...