क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

21 नवंबर 2010

सरकार

कैसी ये सरकार ?
बताओ कैसी ये सरकार ?
          गांव-गांव पसरा सूनापन ,
          जनता करती रोज पलायन ,
          रोजी को लाचार...बताओ कैसी..?
खुल रहे नित नए घोटाले ,
मीलों पर लटके हैं ताले ,
मल्टीप्लेक्स भरमार...बताओ कैसी..?
           ‘कारगिल’का फ्लैट डकारे ,
            अरबों के हैं वारे-न्यारे ,
            करके भ्रष्टाचार...बताओ कैसी..?
लूट,अपहरण,सीनाजोरी ,
इनकी भरती खूब तिजोरी ,
नोटों का अम्बार...बताओ कैसी..?
           जनता से खिलवाड़ कर रहे ,
           भूखे,नंगे रोज मर रहे ,
           करके हाहाकार...बताओ कैसी..?
लहसुन का भी भाव बढ़ गया ,
गल्ले का भण्डार सड़ गया ,
सोते रहे पवार...बताओ कैसी..?
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...