क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

20 नवंबर 2010

मैं अकेली...

फेरकर मुझसे गया जो ,उस नज़र की बात है I
चोट  अन्दर तक लगी,गहरे असर की बात है II

यार की बातें छिड़ी तो घाव ताज़ा हो गया ,
गौर से सुनने लगी,अपने ही घर की बात है II

गाँठ थी कमजोर उसको रख न पाई बांधकर ,
तोड़कर बहने लगी,उठते लहर की बात है II

है तजुर्बे की कमी,मंजिल भी शायद दूर है ,
किस तरह पूरा करूँ,लम्बे सफ़र की बात है II

चार दिन की बात हो तो काट लूँ हँसते हुए ,
कैसे गुजरेगी अकेले,उम्र भर की बात है II

दे रही दस्तक 'उजाला' हो खड़ी दहलीज़ पर ,
कालिमा छँटने लगी ,नूतन पहर की बात है II
Share:

2 टिप्‍पणियां:

  1. फेरकर मुझसे गया जो ,उस नज़र की बात है
    चोट अन्दर तक लगी,गहरे असर की बात है

    बहुत सुन्दर मनभावन रचना .... वाह

    उत्तर देंहटाएं

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...