क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

13 नवंबर 2010

तन्हाई....

रंज़ में डूबा हुआ हरदम सा रहता है ,
वो खुशी के गीत को मातम समझता है II

राह चलता है तो गिरता है,संभलता है ,
अज़नबी चेहरों को लेकर भ्रम सा रहता है II

चाँद की बस्ती में आया चाँदनी का नूर ,
रोशनी कितनी भी हो पर कम समझता है II

नाखूनों से ज़ख्म को करके हरा खुद ही ,
हाथ से अपने स्वयं मरहम सा रखता है II

वैसे तो देखा है पतझड़ भी ,बहारें भी ,
अब उसे बीता हुआ मौसम समझता है II

देखकर तस्वीर अपनी आईने में वो ,
खुद को लाचारी भरा आदम समझता है II
Share:

2 टिप्‍पणियां:

  1. नाखूनों से ज़ख्म को करके हरा खुद ही ,हाथ से अपने स्वयं मरहम सा रखता है II


    बहुत खूबसूरत गज़ल ...


    कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    उत्तर देंहटाएं

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...