क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

17 मार्च 2011

क्या हासिल हुआ ?


मखमली राहों में चलने से बदन घायल हुआ,
क्यों हमारे साथ ही तकदीर का ये छल हुआ

तय सफ़र करना था जिसको सिर्फ मेरे साथ ही,
हो गया मुझसे जुदा,क्यों भीड़ में शामिल हुआ ?

जो मेरी पलकों में रहता था,मेरा संसार था,
देखते ही देखते क्यों आँख से ओझल हुआ ?

थी महकती राह जो फूलों की खुशबू से सदा,
कीच में तब्दील होकर आज क्यों दलदल हुआ ?

मैं समझता था जिसे सपनों की 'रानी',वो मेरे,
हाथ से अपना छुड़ाया हाथ,क्या हासिल हुआ ?
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...