क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

9 जून 2011

निरंकुश सरकार

   रामलीला मैदान में पुलिस की बर्बरता के पश्चात् केंद्र सरकार की जो किरकिरी हो रही है उसकी झल्लाहट या खिसियाहट में अब वह अनाप-शनाप निर्णय लेने लगी है.केंद्र जबरदस्ती बाबा और अन्ना को साम्प्रदायिक साबित करने पर तुली हुई है.उसे अपने चेहरे पर पुती कालिख को धोने का इससे अच्छा उपाय और कुछ नहीं सूझ रहा.लगता है केंद्र के कुछ मंत्री अपने आप को वह चरवाहा समझ रहे हैं जिसके हाथ में सत्ता का डंडा है,और देश की जनता को मूक और निरीह पशु,जिसे डंडे के जोर से जैसा हांकेंगे,जनता वैसे हांक लेगी.
  अब बाबा की संपत्ति की जांच से तो ऐसा ही लगता है.इसके पहले अन्ना ने जब जंतर-मंतर पर अनशन किया था तब उनकी और उनके टीम के सदस्यों के संपत्ति की जांच कराई गई थी.हासिल कुछ नहीं हुआ.अब बाबा पर दबाव बनाने की रणनीति के तहत उनके साथ भी ऐसा ही किया जा रहा है.यह है कांग्रेस का असली चेहरा.बदले की कार्रवाई.अगर केंद्र के मंत्री वाकई अच्छे होते तो इस तरह की ओछी राजनीति ना करते.और ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि कांग्रेसियों को जब-जब उनकी औकात बताई गई,तब-तब वे कटहे कुत्ते की तरह उसपर झपट पड़े हों.
   इंदिरा के समय से ऐसी घटनाएं होती रही हैं.जानकार लोग याद करें तो याद आ जाएंगी.ताजा घटनाक्रम में आई पी एल के चीफ ललित मोदी का दृष्टांत देना प्रासंगिक होगा.आपको याद होगा जब ललित मोदी ने केन्द्रीय मंत्री शशी थरूर को लेकर कुछ खुलासे किये थे तब ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई थी कि शशी को इस्तीफा देना पड़ा.बाद में क्या हुआ?अपनी बदले की आदत के अनुसार कांग्रेसी ललित मोदी के पीछे पड़ गई.जांच पर जांच .ऐसा दबाव बनाया कि बेचारे गिरफ्तारी से बचने के लिए देश से बाहर रहने पर मजबूर हैं.तो ऐसी है केंद्र की सरकार..निरंकुश,दंभी और तानाशाह.अगले चुनावों में इन्हें इनकी औकात बताना आवश्यक हो गया है. 
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...