क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

13 जून 2011

पहली फुहार ...

उमड़-उमड़कर,घुमड़-घुमड़कर
गरजे,बादल बरसे,
सरसर-सरसर हवा से चुनरी
उड़-उड़ जाए सर से II गरजे,बादल बरसे...

                मिटी धरा की प्यास,झूमकर
                मोर वनों में नाचे,
                रिमझिम-रिमझिम बारिश की जब
                बूँद गिरी अंबर से II गरजे,बादल बरसे...

तृप्त हुए भू के वासी सब
तृप्त हुआ जग सारा,
विरहा की अगनी की मारी
मैं निकली ना घर से II गरजे,बादल बरसे...

                पिया बसे परदेस,सताएं
                सखियाँ ताना मारे,

                सावन के गीतों को सुन-सुन

                हूक उठे अन्दर से II गरजे,बादल बरसे...

रह-रह झाँकू द्वार,निहारूं

रस्ता देखूं पल-पल,

पिया मिलन की आस जगी
मन आकुल,जियरा तरसे II गरजे,बादल बरसे...
Share:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...