क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

23 मार्च 2011

आस्तीं का सांप...

आदमी पर किस तरह ,
होता है तोहमत का असर I
जल रहा बिन घास के ,
बिन फूस के शीशे का घर II
          भेद फूलों और काँटों में
          न कर पाई ज़रा ,
          दंभ से अंधी हुई
          माली की बेटी इस कदर II
बाग़ की हर शाख पर ,
कांटे ही कांटे थे उगे I
रोप जो मैंने लगाई
थीं लहू से सींचकर II
          आदमी मजबूर हो जाता है
          जब  हालात से ,
          फैसला मंजूर कर लेता है
          आँखें मूंदकर  II
आदमी पर इस तरह ,
होता है तोहमत का असर I
तिनका-तिनका कर बिखर ,
जाता है सपनों का नगर II
और जाते जाते.....
               तोड़कर वादे सभी हंसकर चला गया I
               आस्तीं का सांप था डसकर चला गया II

Share:

2 टिप्‍पणियां:

  1. भाव पूर्ण रचना... कभी आना... http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com आप का स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर सुधीर जी ....मज़ा आ गया

    उत्तर देंहटाएं

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...