क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है-इसमें जलते आप ही हैं.

17 अक्तूबर 2010

विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं


   ब्लॉग के सभी पाठकों को विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें.बचपन से मैं इस त्योहार को मनाते आ रहा हूँ.छोटा था तो अक्सर रामलीला देखने देर रात तक छुपकर घर से बाहर निकल जाया करता था.एक कौतुहल मन में तब से ही पैदा हो गया था कि आखिर रावण को जलाया क्यों जाता है?नानाजी के मुख से अक्सर रावण की महिमा को ही सुनता आया था.सुबह-सवेरे हाथों में रुद्राक्ष की माला,मंत्र बुदबुदाते होंठ और अंत में उच्च स्वर में शिव-ताण्डव स्तोत्र.एक अजीब से वातावरण का निर्माण हो जाता था.मेरे मन-मष्तिष्क में तो एक अलग ही प्रकार के जोश का संचार होने लगता था.और उसके बाद रोज की तरह रावण को महिमामंडित करते उनके विचार.और हर वर्ष की भांति विजयादशमी के दिन उनकी उँगलियों को पकड़कर रावण दहन देखने जाना.आज समाज में चारों तरफ सफेदपोश रावणों को देखता हूँ तो फिर से वही प्रश्न कि आखिर रावण को जलाया क्यों जाता है?रावण ऐसा तो नहीं था कि उसे हर साल जलाने की जरूरत हो.बल्कि आजकल के कलियुगी रावण से तो कोटि-कोटि गुना अच्छा था वह.जिस रावण की विद्वत्ता का लोहा स्वयं मर्यादा पुरुषोत्तम राम मानते थे,जिसने ना जाने कितने श्रेष्ठ ग्रंथों की रचना की थी,जो स्वयं राम के हाथों मोक्ष पाना चाहता था,जिसने युद्ध पर जाने से पहले अपनी सारी संपत्ति गरीबों में बाँट दी थी,जो सीता हरण के पश्चात उन्हें अन्तःपुर में ना ले जाकर सिर्फ इसलिए अपनी वाटिका में रखा था कि राम-सीता का चौदह वर्ष का वनवास न टूटे.क्या सचमुच में रावण ऐसा था जिस रूप में आज की जनता उसे जानती है....नहीं..दरअसल देश की जनता भोली है,वह असली और नकली रावण का भेद नहीं कर पाई है.आज जरूरत है कि जनता फिर से इस बात को समझे कि महान रावण के घास-फूस से बने पुतले फूंकने से देश का भला नहीं होनेवाला.रावण तो राम के हाथों मोक्ष पा चूका.हर साल मूर्खों की तरह नकली पुतला फूंकने से अच्छा है जिन्दा रावणों का दहन किया जाय,ताकि फिर से इस देश में रामराज्य आ सके.अंत में रावण रचित शिव ताण्डव स्तोत्र की कुछ पंक्तियाँ.....
जटाटवी गलज्जल प्रवाह पावितस्थले,
गलेव लम्ब लम्बिताम् भुजंग तुंग माल्लीकाम्
डमड्डमड्डमड्ड मन्नीनाद वड्डमर्वयम्म
चकार चंड ताण्डवम् तनों तुनः शिवः शिवम्
............
Share:

3 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    कृपया अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा देवे इससे टिप्पणी करने में दिक्कत और परेशानी होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस सुंदर नए से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं

TRANSLATE

मेरे बारे में..

मेरी फ़ोटो
सानपाडा,नवी मुंबई, महाराष्ट्र(मूलतः वाराणसी), India

Follow by Email

© कॉपीराईट:..

ब्लॉग में उपलब्ध सामग्री के सर्वाधिकार ‘कुसुम प्रकाशन,वाराणसी’के पास सुरक्षित हैं.लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना सामग्री का प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष उपयोग उक्त कॉपीराईट का उल्लंघन होगा.ऐसी स्थिति में सामग्री का दुरूपयोग करने वाले लोग कॉपीराईट उल्लंघन के दोषी माने जायेंगे.अन्य सामग्री संदर्भ सहित प्रकाशित की गई है जो कॉपीराइट के नियम से मुक्त हैं.

पाठकों की संख्या...